Stock Exchange क्या है और कैसे काम करता है | Stock Exchange in Hindi

Stock Exchange: दोस्तों आज का यह पोस्ट बहुत ही खास होने वाला हैं क्योंकि इस लेख के माध्यम से हम आपको शेयर मार्केट के स्टॉक एक्सचेंज के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे.

इस ब्लॉग पोस्ट में आपको हिंदी में जानने का अवसर मिलेगा कि स्टॉक एक्सचेंज क्या होता है, स्टॉक एक्सचेंज कैसे काम करता है, भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन-कौन से हैं और स्टॉक एक्सचेंज के कार्य क्या होते हैं.

स्टॉक एक्सचेंज एक आयोजित बाजार है, जहां अलग अलग इंडस्ट्रीज के खरीदार और विक्रेता उपलब्ध होते हैं , स्टॉक एक्सचेंज में हर प्रकार की अलग अलग कंपनियां लिस्ट होती हैं जिससे निवेशक उन कंपनियों के शेयर या म्यूचुअल फंड्स में निवेश कर सकते हैं.

अगर आप स्टॉक एक्सचेंज के बारे में पूरी डिटेल्ड जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े.

तो आइए बिना किसी देरी के आगे बढ़ते हैं और जानते हैं की Stock Exchange Kya Hai?

स्टॉक एक्सचेंज क्या है (Stock Exchange in Hindi)

स्टॉक एक्सचेंज का मतलब होता है स्टॉक का आदान प्रदान या फिर स्टॉक की खरीद बिक्री , यह एक जगह है जहाँ लोग शेयर, बॉन्ड्स और सरकारी प्रतिभूतियाँ खरीदते और बेचते हैं.

आसान भाषा में बोले तो स्टॉक एक्सचेंज एक बाज़ार है जहाँ लोग कंपनियों के शेयर खरीद और बेच सकते हैं. जब आप किसी भी कंपनी का एक शेयर खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी में खुद का एक छोटा सा हिस्सा खरीद रहे होते हैं. 

Stock Exchange क्या है और कैसे काम करता है | Stock Exchange in Hindi

आपके पास जितने अधिक शेयर होंगे, कंपनी में आपकी हिस्सेदारी उतनी ही अधिक होगी, स्टॉक एक्सचेंज कंपनियों को निवेशकों को उनकी कंपनी के शेयर बेचकर पैसा जुटाने का एक तरीका प्रदान करते हैं.

जिसमे निवेशक स्टॉक एक्सचेंज में स्टॉक की खरीद बिक्री करते हैं, जिससे उन्हें कंपनी की सफलता या हानि से लाभ होता है.

The History of the Stock Exchange (स्टॉक एक्सचेंज का इतिहास)

स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसी जगह है जहां लोग कंपनियों के शेयर खरीद और बेच सकते हैं , यह वैश्विक अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, और यह सदियों से चलता आ रहा हैं.

पूरी दुनिया में सबसे पहला स्टॉक एक्सचेंज एम्स्टर्डम में 1602 में स्थापित किया गया था, उस समय इसे डच ईस्ट इंडिया कंपनी कहा जाता था, और यह जनता को शेयर बेचने वाली पहली कंपनी थी.

और डच ईस्ट इंडिया कंपनी की सफलता के कारण ही दुनिया भर में अन्य स्टॉक एक्सचेंजों का निर्माण हुआ.

बात करे अगर अमेरिका की तो वहां सबसे पहला स्टॉक एक्सचेंज 1792 में स्थापित किया गया था जिसे न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज कहा जाता था, और यह आज भी दुनिया का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है.

जब से Stock Exchange का इजात हुआ हैं तब से इसने वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास में एक प्रमुख भूमिका निभाई है, क्युकी इसी प्लेटफॉर्म ने कम्पनियों को अपने शेयर बेचकर अपनी valuation बढ़ाने का मौका दिया.

जिसमे निवेशक अपना पैसा लगाते हैं और जितना ज्यादा कंपनी आगे बढ़ती हैं निवेशक का पैसा भी बढ़ता हैं.

स्टॉक एक्सचेंज कैसे काम करता है (how does the stock exchange work)

शेयर बाजार एक ऐसा बाजार है जहां शेयरों के खरीदार और विक्रेता कंपनियों में खुद के शेयरों का व्यापार करने के लिए एक साथ आते हैं, जब आप एक स्टॉक खरीदते हैं, तो आप अनिवार्य रूप से कंपनी का एक छोटा सा हिस्सा खरीद रहे होते हैं. 

अगर कंपनी अच्छा करती है, तो आपके स्टॉक का मूल्य भी बढ़ता हैं और अगर कंपनी खराब प्रदर्शन करती है, तो आपके स्टॉक का प्राइस कम हो जाएगा.

आमतौर पर कंपनियां अपने बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए पैसा जमा करने के लिए शेयर बाजार का इस्तेमाल कर सकती हैं, जब कोई कंपनी पब्लिक को अपने शेयर बेचती है, तो इसे Initial Public Offering  (IPO) कहा जाता है. 

Stock Exchange क्या है और कैसे काम करता है | Stock Exchange in Hindi

जब कोई कंपनी अपना IPO लाता हैं और लोग उसमे निवेश करते हैं तो कंपनी को अपनी बिजनेस बढ़ाने के लिए पैसे मिल जाते हैं और लोगों को उनकी कंपनी में एक छोटा सा हिस्सा.

ज्यादातर निवेशक किसी न किसी ब्रोकर के माध्यम से शेयर बाजार में पैसा लगता हैं. और हां आपके जानकारी के लिए बता दूं की ब्रोकर एक कंपनी या व्यक्ति होता हैं तो निवेशक की ओर से स्टॉक्स खरीदता और बेचता हैं. लेकिन इसके बदले वो आपके कमीशन लेता हैं.

इतना सब पढ़ने के बाद आप एक बात तो समझ गए होंगे की शेयर बाजार इन्वेस्टर और संस्थान दोनों के लिए एक काफ़ी बेहतरीन चीज हैं जिससे वो अपना फायदा कर सकते हैं.

लेकिन इसमें जितना ज्यादा फायदा होता हैं उतना नुकसान भी होता हैं क्युकी शेयर बाजार में कब क्या हो जाए कोई नही जानता इसलिए अगर आप इसमें अपना पैसा लगाने का सोच रहे हैं तो सोच समझकर और रिसर्च के बाद ही लगाए.

Stocks Exchange in India

भारतीय शेयर बाजार पूरी दुनिया में सबसे  गतिशील बाजारों में से एक है. क्युकी यहां हर प्रकार की कंपनियों हैं जैसे की बड़ी बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी से लेकर छोटे स्टार्टअप तक, उसी के साथ साथ यहां का बाजार भी बहुत तरल है, क्युकी हर दिन करोड़ों के शेयरों का कारोबार होता है, यह आपके धन को निवेश करने के लिए और उसको बढ़ाने के लिए एक बेहतरीन स्थान हैं.

बात करें अगर भारत में उपलब्ध स्टॉक एक्सचेंज की तो यहां दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज हैं: 

  • BOMBAY STOCK EXCHANGE ( BSE ) 
  • NATIONAL STOCK EXCHANGE ( NSE )

BSE दोनों में से पुराना है, जिसकी स्थापना सन् 1875 में हुई थी , और BSE के मुकाबले  NSE नया है, जिसकी स्थापना सन् 1992 में हुई थी. 

हालांकि, NSE ज्यादा स्टॉक एक्सचेंज और ज्यादा कैपिटलाइजेशन की वजह से बहुत ही तेजी से आगे बढ़ गया, यदि आप भारतीय शेयर बाजार में निवेश करने में रुचि रखते हैं, तो आपको कुछ बातें जानने की जरूरत है. 

सबसे पहले, आपको किसी भी एक ब्रोकर के साथ अपना एक ट्रेडिंग खाता या डीमैट खाता खोलना होगा. 

मार्केट में कई अलग-अलग ब्रोकर हैं, इसलिए चुनने से पहले सारी की फीस और बाकी चीजें ध्यान से देख लें , एक बार खाता खुल जाने के बाद आप शेयर खरीदना और बेचना शुरू कर सकते हैं.

एक बात हमेशा याद रखें की शेयर बाजार आपके पैसे को निवेश करने के लिए एक जोखिम भरा स्थान है , कीमतें ऊपर-नीचे होने से आप अपने पैसे खो सकते हैं. 

हालाँकि, यदि आप अपना रिसर्च करते हैं और बुद्धिमानी से निवेश करते हैं, तो आप भारतीय शेयर बाजार में बहुत पैसा कमा सकते हैं.

स्टॉक एक्सचेंज के प्रकार (Types of Stock Exchanges)

अगर हम स्टॉक्स के टाइप्स की बात करें तो वो दो प्रकार के हैं Physical & Electronic.

Physical स्टॉक एक्सचेंज एक पारंपरिक एक्सचेंज हैं जहां खरीदार और विक्रेता शेयरों का व्यापार करने के लिए व्यक्तिगत रूप से एक साथ आकर मिलते हैं.

वहीं Electronic स्टॉक एक्सचेंज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म हैं जहां खरीदार और विक्रेता व्यक्तिगत रूप से मिले बिना ही शेयरों का व्यापार ( खरीद – बिक्री ) कर सकते हैं.

FeaturePhysical Stock ExchangeElectronic Stock Exchange
Trading locationPhysicalOnline
Trading hoursSet hoursContinuous trading
Trading volumeLowerHigher
Trading feesHigherLower

हर प्रकार के स्टॉक एक्सचेंज के अपने अपने फायदे और नुकसान हैं.

Physical Stock Exchange में आप अन्य लोगों के साथ मिलकर और उनसे विचार विमर्श करके भी शेयर खरीद सकते हैं , लेकिन ऑनलाइन में आपको घर से ही इंटरनेट के जरिए शेयर की खरीद बिक्री करनी होती हैं.

स्टॉक एक्सचेंज में निवेश करने का तरीका (Stock Exchange me invest karne ke Tarike)

शेयर बाजार में इन्वेस्ट करने के लिए काफ़ी चीजों का ध्यान रखना पड़ता हैं और और अलग अलग चीनों को सीखना पड़ता हैं , इसलिए अगर आप भी निवेश करना चाहते तो पहले इसको अच्छे से सीखिए .

मैं आपको कुछ पॉइंट्स बता रहा हूं जिसको आप हमेशा ध्यान में रखे जिससे आप शेयर बाजार में बेहतर कर सकेंगे.

  • Do Your Research : किसी भी कंपनी में इन्वेस्ट करने और उसके शेयर खरीदने से पहले आपको उस कंपनी के बारे में हर चीज़ जानना होगा और उसको समझना होगा , जिसमे आप कंपनी के Financial Growth, Debts, Profit & Loss , Analyst Report आदि अन्य डॉक्यूमेंट्स देख सकते हैं. जिससे आपको पता लग जाएगा की आपका पैसा उस कंपनी में प्रॉफिट कमाएगा या नहीं.
  • Start Small : हमेशा सुरुवात में छोटे छोटे अमाउंट में निवेश करने का सोचें , क्युकी सुरु में छोटे अमाउंट पर प्रॉफिट या लॉस होने से आपको कॉन्फिडेंस आएगा , अगर आप सुरु में ही बड़े अमाउंट निवेश करते हैं और उसके आपको लॉस हो गया तो आपको दिक्कत हो सकती हैं.
  • Invest in Long Term : कुछ एक्सपीरियंस आ जाने के बाद हर बार लंबे समय तक निवेश करने का सोचें क्युकी शेयर बाजार में कब क्या हो जाए कोई नही जानता  .लंबी अवधि के लिए निवेश करें,  शेयर बाजार एक लॉन्ग टाइम खेल है, जल्दी अमीर बनने की उम्मीद न करें. इसके बजाय, लंबी अवधि के लिए निवेश करने पर ध्यान दें और बाजार के उतार-चढ़ाव से बाहर निकलें।
  • Diversify Your Portfolio : अपने सभी इन्वेस्टमेंट को एक ही जगह ना लगाएं , बजाए इसके आप अपने रिस्क को कम करने के लिए अपना पैसा अलग अलग इंडस्ट्रीज में लगा सकते हैं.
  • Keep Patience : शेयर बाजार कोई एक दिन का खेल नहीं हैं जिससे आप रातों रात अमीर बन जाएं , इसलिए हमेशा सही जगह रिसर्च करने के बाद इन्वेस्ट करें और धैर्य रखें , आप जितना ज्यादा टाइम अपने शेयर को देंगे , बदले में वो आपको इतना ही रिटर्न भी देगा.
  • Taking Help of a Financial Advisor : अगर आपको शेयर बाजार में उतना कुछ समझ नहीं आता तो आप एक Expert से राए ले सकते हैं और फिर अपना पैसा सही जगह इन्वेस्ट कर सकते हैं.

शेयर बाजार में निवेश करना समय के साथ आपके धन को बढ़ाने का एक शानदार तरीका हो सकता है ,लेकिन यह याद रखना भी महत्वपूर्ण है कि शेयर बाजार एक जोखिम भरा निवेश भी है ,अगर शेयर की कीमतें नीचे जाती हैं तो आप पैसे खो सकते हैं.

यदि आप शेयर बाजार में निवेश करने पर विचार कर रहे हैं, तो अपना खुद का रिसर्च करना और इसमें शामिल जोखिमों को समझना सबसे ज्यादा जरूरी है.

निष्कर्ष

तो दोस्तों मैं उम्मीद करता हूं की आपको हमारे द्वारा शेयर किया गया यह पोस्ट पसंद आया होगा जिसमे हमने आपको Stock Exchange के बारे में काफ़ी सारी चीजें बताई हैं, तो अगर आपको हमारी ये कोशिश अच्छी लगी तो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं.

बाकी अगर आप शेयर बाजार में निवेश करने में इच्छुक हैं तो पहले हर चीज़ अच्छे से पता कर , खुद का रिसर्च कर लें और फिर उसके बाद ही अपना पैसा लगाएं.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों (FAQs)

स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज एक बाज़ार है जहाँ सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों के शेयरों के खरीदार और विक्रेता व्यापार करते हैं. शेयरों को आपूर्ति और मांग द्वारा निर्धारित मूल्य पर खरीदा और बेचा जाता है , स्टॉक एक्सचेंज कंपनियों को पूंजी जुटाने और निवेशकों को शेयर खरीदने और बेचने का एक तरीका प्रदान करते हैं.

स्टॉक एक्सचेंज कैसे काम करते हैं?

आसान भाषा में बोले तो स्टॉक एक्सचेंज दलालों और डीलरों की एक प्रणाली के माध्यम से काम करता हैं , दलाल मीडिएटर होते हैं जो निवेशकों की ओर से शेयर खरीदते और बेचते हैं , वहीं डीलर मार्केट मेकर होते हैं जो अपने खाते के लिए शेयर खरीदते और बेचते हैं. जब कोई निवेशक शेयर खरीदना या बेचना चाहता है, तो वे अपने ब्रोकर को ऑर्डर देते हैं और ब्रोकर फिर एक डीलर को ऑर्डर भेजता है, जो सर्वोत्तम उपलब्ध कीमत पर ऑर्डर निष्पादित करता है.

शेयर बाजार में निवेश करने के क्या फायदे हैं?

शेयर बाजार में निवेश करने के बहुत सारे फायदे हैं लेकिन सबके लिए वो अलग अलग हो सकते हैं , लेकिन बड़ा फायदा यह है की शेयर बाजार में निवेश करने से आप अपना कैपिटल बढ़ा सकते हैं, हालांकि इसमें रिस्क भी बहुत होता हैं अगर कंपनी अच्छा करती हैं तो आपके शेयर के दाम बढ़ेंगे और यदि खराब परफॉर्मेंस करती हैं तो आपके शेयर के दाम नीचे चले जायेंगे जिससे आपको लॉस हो सकता हैं, इसलिए हमेशा निवेश करने से पहले रिसर्च जरूर करें.

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*